अगर आप कर्ज के जंजाल में फस चुके है तो आपको क्या क्या पेरशानिया आ सकती है तो जानिए उनके निवारण भी

0 775

अगर आप कर्ज के जंजाल में फस चुके है तो आपको क्या क्या पेरशानिया आ सकती है तो जानिए उनके निवारण भी-

अगर आप कर्ज के जंजाल में फास चुके है तो आपको क्या क्या पेरशानिया आ सकती है तो जानिए उनके निवारण भी-आज कल वैसे तो ज़्यादतर काम ऑनलाइन और नेटबैंकिंग से होने लगा है बहुत सारे बैंक हमको नकद नहीं होने पे ब्याज पर पैसा भी देती है जिससे हमारे रुके हुए काम को हम पूरा करते है उसके लिए हमको लोन का सहारा भी लेना पड़ता है उस समय हमरा क्रेडिट कार्ड हमको याद आता है और क्रेडिट कार्ड को स्तमाल करना तो आसान है परन्तु रोज़ के खर्चो को अगर हम क्रेडिट कार्ड से करने लगे तो उसका भुगतान करना हमारे लिए मुश्किल हो जाता है और फिर हम क़र्ज़ में फसते चले जाते है उसके बाद नकदी होते हुए भी हम क्रेडिट कार्ड के भुगतान और ब्याज में फसते चले जाते है, ऐसे ही जब आपको ये महसूस होने लगे कि आप क़र्ज़ में फास रहे है तो देखिये इससे कैसे बाहर निकल पाते है ।

क्रेडिट कार्ड के काम से कम भुगतान करने से आपको यह पता चल जाता है कि आप क़र्ज़ में है क्यों कि सबसे न्यूनतम धनराशि पूरी रकम नहीं होती बल्कि ये हमारे पुरे बिल में से कुछ राशि होती है जो पुरे बिल में आपको चुकाना पड़ता है और बाकी बची हुई धनराशि को हमको ब्याज सहित चुकाना पड़ता है ।

अगर हमारी बचत नहीं हो पा रही है तो भी हमको हर महीने अपने बचत खाते में बचत राशि जरूर डालनी चाहिए जैसी कि बच्चो कि पढ़ाई के लिए, किसी फण्ड में, किसी आपातकालीन परिस्थति के लिए या घर खरीदने में न्यूनतम राशि देने के लिए इत्यादि ।

Also read this :-उत्तराखंड सरकार दे रही है रोजगार, इस तरह से करें आवेदन

देखने कि बात ये है कि अगर हमारी बचत हर महीने एक निश्चित राशि के अनुसार नहीं बढ़ रही है तो इसका मतलब हम क़र्ज़ के खतरे के आसपास है, और अगर हमारे पास कोई बचत नहीं है तो किसी गंभीर परिस्थति में जैसे अचानक नौकरी का न होना या कोई बीमारी का हो जाना ऐसी स्थति में फिर हमको क़र्ज़ लेना पड़ता है ।

क्रेडिट कार्ड पर हमको कभी भी अग्रिम नकदी तो बिल्कुल नहीं लेना चाहिए क्यों कि इसपर खर्चा अत्यधिक आता है अगर हम और आप क्रेडिट कार्ड पे अग्रिम नकदी लेते है तो क़र्ज़ भी ज़्यादा बढ़ता है क्रेडिट कार्ड पर अग्रिम नकदी लेने पर हमको ब्याज भी ज़्यादा चुकाना पड़ता है। काम से काम भुगतान कि राशि २०% से अधिक होती है तो और हमारे क्रेडिट कार्ड कि न्यूनतम भुगतान कि राशि आपकी आय का २०% से ज़्यदा होता है तो आप अभी क़र्ज़ में चल रहे है और आपको रोज़ मरहा के जो खर्चे है खाना पीना गाड़ी अन्य पर आपको समस्या आरही है और आपके पास आवश्यकता अनुसार धनराशि नहीं है।

और हाँ एक बात और ध्यान रखने वाली ये है कि एक क़र्ज़ से दूसरे क़र्ज़ का भुगतान करने के लिए हम और दूसरे तरीके से अगर क़र्ज़ लेते है तो हम अत्यधिक कर्ज में डूबते जाते है चाहे क़र्ज़ लेने का जरिया कुछ भी हो सकता है जैसे- ग्रह ऋण या किसी सोने चांदी कि वास्तु पे ऋण ऐसा करने से हमको क़र्ज़ से छुटकारा नहीं मिलेगा बल्कि हम और क़र्ज़ के जाल में फसते चले जाते है ।

ये भी पढ़े :-10 सबसे ज्यादा पढ़े लिखे एक्टर्स में से एक तो स्वर्ण पदक के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की हे,जाने कौन हे वो..

Leave A Reply

Your email address will not be published.