मैं अपने जूतों पर ‘एडिडास’ लिखता था,अब एडिडास ने अपने जूते पर मेरा नाम लिखा है,ये मेरे लिए….

0 282

भारतीय एथलीट हेमा दास की कहानी सब को पता ही होगा, ‘सुरुआति से लेकर अब तक का सफर का बारे में सायद आपको पता होगा ,लेकिन अब हम आप को जो बताने जारहे हे उसके बारेमे सायद ही आपको पता हो। क्योंकि उसने पिछले कुछ वर्षों में दुनिया में कई शानदार प्रदर्शन किया हे और देस का नाम रोशन भी किया हे ।

400 मीटर के राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक ने भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना के साथ एक बातचीत में जमीनी स्तर से उठने की कहानी साझा की और अपने शुरुआती दिनों और संघर्ष का सामना किया हुआ दिनों को याद किया और उनके बारेमे बताया ।

सुरेश रैना के इंस्टाग्राम पर लाइव होने के बाद, हेमा दास ने अपनी यात्रा को खरोंच से वापस देखा – उन्होंने कहा हे की “मैं अपने जूतों पर ‘एडिडास’ लिखता था; अब एडिडास ने अपने जूते पर मेरा नाम लिखा है” ये मेरे लिए गौरब की बात हे ।

हेमा दास की 2018 विश्व अंडर -20 चैंपियनशिप में सफलता के बाद, एडिडास ने हेमा दास के साथ सहयोग करने और उन्हें एक तरफ उनके नाम के साथ अनुकूलित जूते प्रदान करने का फैसला किया था और जूतों पर लिखे गए शब्द ‘इतिहास रचें’।

और उन्होंने कहा हे की जब मैंने दौड़ना शुरू किया था, तो मैं नंगे पांव दौड़ता था । लेकिन मेरे पापा जूते दिलाये थे वो साधरणासा था लेकिन मैंने वो पेहेन कर दौड़ ना शुरू क्या था । मैंने अपने हाथ से जूते पर ‘एडिडास’ लिखा करता था। आप कभी नहीं जानते कि भाग्य क्या कर सकता है, एडिडास अब मेरे नाम के साथ जूते बना रहा है, “हेमा दास ने भाबुक हो के ये बात भी सुरेश रैना के साथ सेयर किया था ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.