नीता अंबानी ने इस एक शर्त पर मुकेश अंबानी से की थी शादी, दिलचस्प है उनकी प्रेम कहानी

0 767

भारत के सबसे अमीर व्यवसायी मुकेश अंबानी को दुनिया भर में जाने जाता है। मुकेश अंबानी हमेशा सुर्खियों में रहते हैं और साथ ही उनकी पत्नी नीता अंबानी भी सुर्खियों में रहती हैं, नीता सामाजिक कार्यों और क्रिकेट में बहुत सक्रिय हैं। सभी उसकी उदारता की प्रशंसा करते हैं। आइए जान ते हे कि बॉलीवुड सुंदरियों को पीछे छोड़ते हुए नीता अंबानी इस अम्बानी खान्दान की दुल्हन कैसे बनीं। दोनों की प्रेम कहानी बहुत दिलचस्प और रोमांचक भी है।

दरअसल बात ये हे की मुकेश अंबानी की मां कोकिलाबेन ने उनको अपनी परिवार की बहू को चुना था । उसने नीता को एक समारोह में देखा था जहाँ वह नृत्य कर रही थी, जिसके बाद उसने नीता को अपनी बहू बनाने का फैसला भी किया था । जैसे की आप जानते हे अंबानी परिवार अमीर परिवार में से एक था, जबकि नीता एक मध्यम वर्गीय परिवार से थी। उस समय वो एक स्कूल में पढ़ा रही थीं।

नीता शुरू से ही बच्चों को पढ़ाना पसंद करती थी और डरती थी कि अगर उसकी शादी हो गई तो वह बच्चों को नहीं पढ़ा पाएगी। उन्होंने खुद इस बात का खुलासा भी किया था, लेकिन बाद में जैसे ही बात आगे बढ़ी उसने कहा कि अगर वह बच्चों को पढ़ाने केलिए शादी के बाद स्कूल जाने की अनुमति मिलेगी तभी वह मुकेश अंबानी से शादी करेगी। नहीं तो वो शादी नहीं करेगी। मुकेश ने तुरंत नीता के मुंह से यह बात सुनकर हां कर दी और शादी के बाद भी नीता एक निजी स्कूल में शिक्षक के रूप में काम करती रही।

शादी के बाद, उन्होंने खुद कहा कि 1987 में जब विश्व कप आयोजित किया गया था, तब उनके एक छात्रों की माता-पिता ने उनको विश्व कप मैच देखने के लिए टिकट दिया था, लेकिन वो टिकट लेने से इनकार कर दिया। लेकिन वे तब चौंक गए जब उन्होंने स्टेडियम के प्रेसिडेंशियल बॉक्स में वीआईपी सीट पर बैठी नीता को देखे थे । बाद में, जब उसने नीता से पूछा तव उनको पता चला था कि नीता एक साधारण महिला नहीं बल्कि अंबानी परिवार की बहू थी। आप यह जानके हैरान होंगे की उस वक्त वो बिस्व कप उनकी ही कंपनी (रिलायंस ग्रुप) स्पॉन्सर कर रहा था। ऐसे ही बहुत ही दिलचस्प थी उनकी प्रेम कहानी ।

ये भी पढ़े:-भारत के पूर्व क्रिकेटर और UP सरकार के कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान कोविड-19 के कारण हुआ निधन

Leave A Reply

Your email address will not be published.