मुंबई हमले के दोषी मास्टरमाइंड डेविड हेडले को भारत नहीं सौंपेगा, US ने बताया ये बड़ी वजह

0 400

US ने मुंबई हमले के दोषी आतंकवादी डेविड हेडले को भारत नहीं सौंपेगा,बताया ये बड़ी वजह

वॉशिंगटन: मुंबई में आतंकवादी हमले के दोषी डेविड हेडली को भारत में प्रत्यर्पित नहीं किया जा सकता है, लेकिन कनाडा के एक व्यापारी और सह-षड्यंत्रकारी, पाकिस्तान के तहूर राणा द्वारा कनाडा में प्रत्यर्पित किया जा सकता है। राणा की जमानत अर्जी के विरोध में एक अमेरिकी वकील ने संघीय अदालत में यह बात कही हे ।

राणा, डेविड कोलमैन हेडली के बचपन के दोस्त, भारत के अनुरोध पर 10 जून को लॉस एंजिल्स में गिरफ्तार किया गया था। मुंबई हमलों में 174 लोग मारे गए, जिनमें छह अमेरिकी थे। भारत ने 2008 के मुंबई हमलों के सिलसिले में राणा के भारत प्रत्यर्पण की मांग की थी। भारत में, राणा को भगोड़ा घोषित किया गया है।

मुंबई 2008 में एक और समन्वित हमले से प्रभावित हुआ था जब पाकिस्तान के दस आतंकवादियों ने शहर में चार दिनों तक चले 12 समन्वित शूटिंग और बमबारी हमलों को अंजाम दिया था। 10 हमलावरों में से केवल एक, अजमल कसाब, हमले में बच गया। उन्हें 2012 में यरवदा जेल में फांसी दी गई थी।

आतंकवादियों के एक समूह द्वारा किए गए हमले में कम से कम 174 लोग मारे गए और 300 से अधिक घायल हो गए, जो समुद्री मार्ग से मुंबई पहुंचे। हेडली ने 26/11 हमले को अंजाम देने से पहले मुंबई, पुणे सहित विभिन्न भारतीय शहरों को फिर से खोल दिया था। उन्हें वर्ष 2009 में गिरफ्तार किया गया था।

संघीय अभियोजक के अनुसार, 2006 और नवंबर 2008 के बीच, राणा हेडली, जिसे दाऊद गिलानी ’के रूप में जाना जाता है, और कुछ अन्य पाकिस्तानी आतंकवादियों ने लश्कर-ए-तैयबा और हरकत-उल-जिहाद-ए-इस्लामी को मुंबई में हमले की साजिश रचने और अंजाम तक पहंच ने में मदद भी की। जहा बड़ी संख्या में निर्दोष लोग मारे गए।

पाकिस्तानी-अमेरिकी हेडली लश्कर-ए-तैयबा का आतंकवादी है। 2008 के मुंबई हमलों में वह सार्वजनिक गवाह रहा है। वह हमले में अपनी भूमिका के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका में 35 साल की जेल की सजा काट रहा है। राणा के प्रत्यर्पण पर अमेरिका ने अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है। यह स्पष्ट है कि इलिनोइस अदालत में राणा पर मुकदमा चलाया गया था और भारत द्वारा लगाए गए आरोपों को अलग तरीके से सुनबाई यानी बिचार भी किया जाएगा ।

राणा ने अपने बचाव में कहा कि अमेरिकी साजिशकर्ता हेडली के प्रत्यर्पण नहीं करने का अमेरिकी फैसला असंगत था और उसने उसे प्रत्यर्पित होने से भी रोका। शुक्रवार को लॉस एंजेलिस की एक संघीय अदालत में, सहायक अमेरिकी अटॉर्नी जनरल जे ललेजियान ने कहा कि, राणा की तरह, हेडली ने तुरंत हमले को कबूल कर लिया था और सभी आरोपों के लिए दोषी होने का लिया था। इसीलिए उन्होंने कहा हेडली को भारत नहीं भेजा जाएगा और ये भी कहा हे की राणा ने संयुक्त राज्य अमेरिका में अपराध स्वीकार या सहयोग नहीं किया, इसलिए उसकी स्थिति अलग थी। इसलिए, वह हेडली को दिए गए सभी सुबिधाओं यानी लाभों को प्राप्त नहीं दिआ जायेगा । खबर मुताबिक राणा की जमानत अर्जी पर अगले हफ्ते सुनवाई होगी।

ये भी पढ़े:-अजब प्रेम कहानी, नवविवाहिता लड़की अपने पति से कहती है कि वह समलैंगिक के साथ…

Leave A Reply

Your email address will not be published.