कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बड़े घोषणा की है, गरीब और प्रवासी श्रमिकों की वापसी के लिए..

0 282

इस लकडाउन के समय में सोनिया गांधी ने एक बड़े घोषणा की है, खोद पार्टी की अध्यक्ष और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने यह ट्वीट किया हे की तालाबंदी के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे श्रमिकों की वापसी के लिए भुगतान करेंगी।

उन्होंने कहा हे की “इंडियन नेशनल कांग्रेस (केएनसी) ने फैसला किया है कि राज्य कांग्रेस कमेटी की प्रत्येक इकाई हर जरूरतमंद और प्रवासी कामगार के घर लौटने के लिए ट्रेन टिकट की लागत वहन करेगी, और कांग्रेस आवश्यक कदम उठाने का फैसला करेगी,”

सोनिया गांधी ने कहा श्रमिकों देस की रीढ़ हैं,उनकी कड़ी मेहनत और बलिदान राष्ट्र निर्माण की आधारशिला है,लकडाउन के कारन लाखों श्रमिकों को घर लौट नहीं परहे हे, और उन्होंने कहा हे की 1947 के बाद पहलीबार ऐसी घटना हुई हे जो लाखों लोगों सेखड़ों दूर पैदल ही आपने घर आरहे हे,सैकड़ों मील दूर, सभी बाधाओं को अनदेखा करते हुए, कार्यकर्ता अपने गृहनगर में लौट आ रहे हे,

हर दिल उनके दर्द के बारे में सोचता था, और फिर हर भारतीय ने उनके दृढ़ संकल्प और दृढ़ संकल्प की प्रशंसा की। लेकिन देश और सरकार का क्या कर्तव्य है? आज भी, देश भर से लाखों कर्मचारी और श्रमिक घर लौटना चाहते हैं। लेकिन उनके पास घर लौटने के लिए पैसे नहीं हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार की कठोर आलोचना की है, “दुर्भाग्य से, सरकार और रेल मंत्रालय दोनों ही इस तरह के कष्टों का सामना करने के लिए श्रमिकों पर यात्रा किराया वसूल रहे हैं।” ऐसे में सोनिया गांधी ने घोषणा की है कि उन्हें ऐसे कर्मचारियों को ट्रेन का किराया देना होगा जो घर से बाहर नहीं निकल परहे हे ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.