लाल किले राष्ट्र को सन्देश देते हुए प्रधानमंत्री ने चीन और पाक पर साधा सीधा निशाना कही ये बड़ी बात

0 455

आज भारत के स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से प्रधानमंत्री मोदी ने कहा की एल ओ सी हो या एल ऐ सी देश की सम्प्रभुता पर जिसने भी आँख दिखयी या कोशिश की है तो भारत देश ने और देश की सेना ने उसको उसी की भाषा में जवाब दिया है और आगे भी दिया जायेगा । भारत की सम्प्रभुता का सम्मान हमारे लिए सर्वोच्च है इसके लिए हमारा देश क्या कर सकता है हमारे वीर जवान क्या क्या कर सकते हैं उसका उदहारण लद्दाख में साडी दुनिया ने देखा है ।

७४ वे स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी जी ने अपने देश के सम्मान, रक्षा और सभी देश वासियो के अंदर देश प्रेम और जागृत करने के लिए सन्देश दिया और देश के दुशमनो को सबक सीखने के लिए हुंकार भरी और एल ए सी और एल ओ सी पर निशाना साधा और कहा जिसने भी देश की तरफ आंख उठायी उनको हम उन्ही की भाषा में जवाब देंगे उसका उदहारण पूरी दुनिया देख ही रही हैं पी एम् मोदी ने कहा की अभी इतनी आपदा का समय चल रहा है उसके बाद भी देश के सीमा पर देश की क्षमता और योग्यता को चुनौती देने की गन्दी कोशिशें की जा रही है ।

लेकिन LoC से लेकर LAC तक देश की श्रेष्ठ्ता और प्रभुता पर जिस किसी ने भी आंख उठाई, देश की सेना और हमारे जवानों ने उनको उन्ही की भाषा में जवाब दिया है भारत की संप्रभुता की रक्षा के लिए पूरा देश में एक जोश सा आया हुआ है और देश में देशवासियो में भारत देश प्रेम की अटूट श्रद्धा है पूरा देश राष्ट्र हित के लिए संकल्प लिए हुए है इस संकल्प के लिए हमारे वीर जवान कुछ भी कर सकते हैं और पूरा देश क्या कर सकता है उसका समय समय पर उदहारण देखने को पूरी दुनिया को मिलता है ।

पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज मातृभूमि की रक्षा के लिए जिन जिन वीरो ने अपने प्राणो का बलिदान दिया है उन सभी वीर जवानों को आदरपूर्वक नमन करता हूं. आतंकवाद हो या विस्तारवाद भारत देश आज इसका डटकर मुकाबला कर रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा भारत के जितने प्रयास शांति और सौहार्द के लिए हैं, उतनी ही प्रतिबद्धता अपने देश की सुरक्षा के लिए, अपनी सेना को मजबूत करने की है. उन्होंने कहा कि भारत अब ने रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए भी पूरी क्षमता से तैयारी कर ली है. देश की सुरक्षा में हमारे बॉर्डर और आधारिक संरचना की भी बहुत बड़ी भूमिका है पीएम ने कहा कि हिमालय की चोटियां हों या हिंद महासागर के द्वीप, आज देश में रोड और इंटरनेट कनेक्टिविटी का तेज़ गति से विस्तार हो रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज भारत ने आपदाओं से निबटते हुए बहुत काम समय में असंभव को संभव किया है. इसी इच्छाशक्ति और हिम्मत के साथ प्रत्येक भारतीय को आगे बढ़ना है. वर्ष 2022, हमारी आजादी के 75 वर्ष का पर्व, अब बस पास में आ ही गया है. उन्होंने कहा कि हमारी नीतियां , हमारे प्रक्रियां, हमारे उत्पाद सब कुछ सर्वश्रेष्ठ और शुद्ध होने चाहिए, तभी हम एक भारत-श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को साकार कर पाएंगे।

रक्षा विशेषज्ञ ने कहा कि पीएम ने पड़ोसी देशों को लेकर भी अपनी नीति स्पष्ट कर दी है, जिन देशों से हमारे मत मिलते हैं उनसे अच्छे संबंध रखने में हमको कोई एतराज़ नहीं है. परन्तु LAC और LoC का जिक्र कर चीन और पाकिस्तान को स्पष्ट संदेश में कहा है कि अगर कोई हमारी ओर आंख उठाकर देखेगा तो इसकी कीमत उन्हें चुकानी पडे़गी. पीएम मोदी ने रक्षा क्षेत्र में भारत की आत्मनिर्भरता को लेकर कठोरता से कहा है. उन्होंने कहा कि इसी कड़ी में भारत ने अपने जरूरत के रक्षा सामानों को खुद बनाने का फैसला किया है की अब सारी वस्तुएं स्वदेशी निर्माण होगी ।

देश के सभी गांवों में फाइबर ऑप्टिक्स बिछाने के फैसला लेने की बात आज पीएम् मोदी ने कही इसका फायदा सीमा पर स्थित गांवों को भी मिलेगा. इसके अलावा पीएम बॉर्डर एरिया में बुनियादी सुविधाएं जैसे कि सड़क, मोबाइट नेटवर्क और बिजली के विस्तार पर भी जोर दिया.रक्षा विशेषज्ञ लेफ्टिनेंट ने एनसीसी पर जोर दिया और उन्हें ज्यादा जिम्मेदारियां देने पर जोर दिया है. इससे देश की रक्षा में एनसीसी की भागीदारी बढ़ेगी.नेवी और एयरफोर्स में महिलाओं को युद्ध के मोर्चे पर तैनात करने की घोषणा को फैसला बताया. उन्होंने कहा कि आर्मी में अभी महिला सैनिक कॉम्बैट रोल में नहीं आई हैं, लेकिन असम राइफल्स की महिला सैनिक जम्मू-कश्मीर में तैनात हैं. पीएम ने संदेश दिया है कि महिलाओं को भविष्य में कॉम्बैट रोल भी मिलेगा।

ये भी पढ़े :-कोरोना वैक्सीन (Vaccine) को तैयारी लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी ये जानकारी .

Leave A Reply

Your email address will not be published.