महा शिवरात्रि 2020: आपके सभी सपने सच होंगे, बस इस मंत्र का जप करें..

0 226

सभी देवी-देवताओं में, भोलेनाथ को कल्याणकारी माना जाता है। इसके अलावा, थोड़ी सी भक्ति करने से, वे खुश होते हैं और अपने भक्तों की इच्छाओं को पूरा करते हैं। शिव पूजा का बहुत लोकप्रिय पंचाक्षर मंत्र ‘ओम नमः शिवाय’, जो शुरू में 7 के संयोग से शकरकरा बन जाता है, जल्द ही भोले नाथ को भी प्रसन्न करता है। वही मंत्र शिव तथ्य है जो सर्वज्ञ, परिपूर्ण और स्वभाव से शुद्ध है, इसके समान कोई दूसरा नहीं है। इसके अलावा, जब this ओम नमः शिवाय ’का मंत्र हृदय में समाहित होता है, तो सभी धर्मग्रंथों और शुभकामनाओं का ज्ञान स्वयं ही प्राप्त हो जाता है।

महामंत्र की शक्ति वेदों के अनुसार, ब्रह्मांड के निर्माता शिव को प्रसन्न करने के लिए सिर्फ ‘ओम नमः शिवाय’ का जप पर्याप्त है। इसके अलावा, भोलेनाथ इस मंत्र से बहुत जल्दी प्रसन्न होते हैं और इस मंत्र के जाप से आपके सभी दुख, सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और आपको महाकाल का असीम आशीर्वाद प्राप्त होता है। इसी स्कंदपुराण में कहा गया है कि ‘ओम नमः शिवाय’ महामंत्र, जो मन में बसता है, इसके लिए कई मंत्रों, तीर्थों, तपस्याओं और यज्ञों की क्या आवश्यकता है। यह मंत्र मोक्ष प्रदान करने वाला है। इसके साथ ही, यह पापों को नष्ट करता है और साधक को लौकिक, अलौकिक आनंद दे रहा है।

 जप करने की विधि हमें इस मंत्र का जाप शिवालय, तीर्थस्थल या घर में स्वच्छ, शांत और एकांत स्थान पर करना चाहिए। रुद्राक्ष की माला से ओम नमः शिवाय मंत्र का प्रतिदिन कम से कम 108 बार जाप करना चाहिए, क्योंकि रुद्राक्ष भगवान शिव को बहुत प्रिय है। जप हमेशा पूर्व या उत्तर दिशा की ओर करके ही करना चाहिए। यदि आप पवित्र नदी के तट पर शिवलिंग की स्थापना और पूजा के बाद जप करेंगे, तो इसका फल सबसे अच्छा प्राप्त किया जा सकता है। शिव के ‘ओम नम: शिवाय’ मंत्र का किसी भी समय पाठ किया जाता है। इसके धार्मिक लाभों के अलावा, मंत्र ‘ओम नमः शिवाय’ भी स्वास्थ्य लाभ देता है। इसके उच्चारण से सभी इंद्रियाँ जागृत हो जाती हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.