जुल्मों के खिलाफ विरोध के कारण इस महिला पत्रकार की गोली मारकर हत्या, ISIS ने ली जिम्मेदारी

0 264

काबुल: पूर्वी अफगानिस्तान में गुरुवार को अपने ड्राइवर के साथ टीवी पत्रकार मलाला मैवंद की गोली मारकर हत्या कर दी। उसकी मृत्यु एक महीने में अफगानिस्तान में एक पत्रकार की दूसरी हत्या का प्रतीक है। उसकी हत्या संयुक्त राज्य अमेरिका और तालिबान के बीच शांति वार्ता के बावजूद अफगानिस्तान में बढ़ती हिंसा का एक और संकेत है। टीवी पत्रकार नंगरहार प्रांत स्थित अपने घर से जैसे ही कार से निकलीं उन पर बाहर मौजूद हमलावरों से गोलियां बरसानी शुरू कर दीं।

जानकरी के मुताबिक मैवंद इस्लामिक स्टेट के जुल्मों के खिलाफ सार्वजनिक तौर पर विरोध दर्ज कराती थीं। पत्रकारों, मौलवियों, राजनेताओं और अधिकार कार्यकर्ताओं सहित प्रमुख अफगान आंकड़े हाल के महीनों में मारे गए हैं। नांगरहार प्रांतीय गवर्नर के प्रवक्ता अताउल्लाह खोगयानी और स्थानीय अस्पताल ने हत्याओं की पुष्टि की।

नंगरहार प्रांत और इसकी राजधानी जलालाबाद में सरकारी बलों और तालिबान के बीच नियमित संघर्ष देखा गया है। चरमपंथी इस्लामिक स्टेट समूह ने भी प्रांत में कई घातक हमलों का दावा किया है। मैवंद की हत्या, जो 20 के दशक में हुई थी, रेडियो लिबर्टी के रिपोर्टर अलियास डेई के लश्कर गाह में कार बम हमले में मारे जाने के कुछ हफ़्तों बाद हुई।

ह्यूमन राइट्स वॉच ने कहा कि दया को पहले तालिबान द्वारा धमकी दी गई थी। काबुल में एक पूर्व टेलीविजन प्रस्तोता, यम सियावाश, पिछले महीने अपने घर के पास इसी तरह के कार बम हमले में मारे गए थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.