आउटसाइडर होने की वजह से अपने संघर्ष की कहानी खुलासा किया मनोज बाजपेयी ने

2 399

आउटसाइडर होने की वजह से हिंदी सिनेमा में मनोज वाजपेयी की संघर्ष कहानी जानिए क्या कहा उन्होंने-

हिंदी सिनेमा में मनोज वाजपेयी की संघर्ष कहानी – “मैं उस साल एक चाय की दुकान पर था और तिग्मांशु अपनी स्कूटी पर मुझे देखने आये थे । शेखर कपूर मुझे” बेटिंग क्वीन “के लिए कास्ट करना चाहते थे। मुझे लगा कि मैं तैयार था और मैं मुंबई चलपड़ा । मैं और मेरे पांच दोस्त के साथ एक ही घर में रहते थे । मैं एक काम की तलाश में था, लेकिन मुझे कोई भूमिका नहीं मिल रही थी। एक सहायक निर्देशक ने मेरी फोटो खींची और और फाड़ दिया मैंने उस एक दिन में तीन प्रोजेक्ट खो दिए।

यह पहले ऑडिशन में था जिसे मुझे वहांसे हटने यानी उस जगह छोड़ने के लिए कहा गया था। क्योंकि मैं एक आइडल हीरो की तरह नहीं दिख रहा था, उन्होंने सोचा कि मैं कभी बॉलीवुड हीरो या किसी भी भूमिका में हिस्सा नहीं ले पाऊंगा। सत्य, अलीगढ़, राजनीति, गैंग ऑफ वासेपुर जैसी फिल्मों में अभिनय कर चुके अभिनेता मनोज बाजपेयी अपने संघर्षपूर्ण जीवन की कहानी के बारे में ऐसे साझा किया हैं।

उन्होंने कहा कि नौ साल की उम्र में, उन्हें लगा कि अभिनय उनकी मंजिल है। बेशक, उन्हें इंडस्ट्री में अपनी जगह पाने में काफी परेशानी हुई। उन्होंने आत्महत्या के बारे में भी सोचा, लेकिन उन्होंने इसे अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया और वे अपने प्रयासों में सफल रहे।

उन्होंने कहा, “मेरे गांववालों ने मुझे निकम्मा कहे दिए थे । लेकिन मैंने उनके बारे में सोचना बंद कर दिया। मैं एक बाहरी व्यक्ति हूं, जो अंग्रेजी और हिंदी में सीखनेकी कोशिश कर रहा था और मैंने खुद भोजपुरी के साथ ये सब लैंगुएज सीखना शुरू कर दिया था । उन्होंने कहा। मैंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (NSD) में आवेदन किया, लेकिन तीन बार रिजेक्ट कर दिया गया था । मैं आत्महत्या करने के बहुत करीब भी पहंच गया था, लेकिन मेरे दोस्त मुझे अकेला नहीं छोड़ते थे, जब मैं सो रहा था तब भी वो मेरे साथ साथ रहते थे । और वो तबतक मुझे नहीं छोड़े जबतक में कुछ बन नहीं पयाथा ।

View this post on Instagram

An open letter addressed to Mumbai, my कर्मभूमि. Do watch this and #BhonsleTheMovie on #SonyLIV.

A post shared by Manoj Bajpayee (@bajpayee.manoj) on

मनोज ने कहा, “मैं उस समय किराया देने के लिए संघर्ष कर रहा था और कभी-कभी वडा पाव खरीदना बहुत महंगा लगता था, लेकिन मेरी पेट की भूख सफल होने से नहीं रोक पाई थी मुझे । चार साल तक ऐसी कठिन परिस्थिति के बाद मुझे महेश भट्ट की टीवी सीरियल में भूमिका मिला था जहा मेरी पहली सैलरी 1,500 रुपये प्रति एपिसोड था ।

View this post on Instagram

A conversation!!! #Bhonsle v/s #Vilas

A post shared by Manoj Bajpayee (@bajpayee.manoj) on

उसके बाद मनोज ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने कहा, “मुझे अपनी नौकरी पसंद थी और थोड़ी देर बाद मुझे सच में काम करने का मौका मिला। तब मुझे बहुत सारे पुरस्कार मिले। मैंने अपना पहला घर बनाया। उस समय, मुझे लगा कि मैं यहां रह सकता हूं। 67 फिल्मों के बाद, मैं आज यहां पहुंचा,” उन्होंने कहा। “जब आप अपने सपने को सच करने की कोशिश करते हैं, तो समस्याएं महत्वपूर्ण नहीं होती हैं। 9 वर्षीय बिहारी बच्चे का विश्वास महत्वपूर्ण है और कुछ नहीं,” उन्होंने कहा।

ये भी पढ़े :-सुशांत सिंह राजपूत की सादी और पूर्व प्रेमिका अंकिता को लेकर पिता केके सिंह ने दी ऐसी बयान

Leave A Reply

Your email address will not be published.